भूकंप के झटके ने बिहार को हिला डाला। घर पर लोगों सोए हुए थे जब हुआ यह हादसा।
भूकंप के झटके ने बिहार को हिला डाला। घर पर लोगों सोए हुए थे जब हुआ यह हादसा।

रात के समय 11:00 बजे हुआ यह हादसा। भूकंप अपने लोगों के रात की नींद छीन लिया और बिहार में मचाया तांडव।

भूकंप एक ऐसे प्राकृतिक आपदा है जिसका कोई तोड़ नहीं। यह कब होगा कब रुकेगा यह कोई नहीं बता सकता। बस इसका तीव्रता कितना था यह मापा जा सकता है। इस बार की हुई भूकंप का तीव्रता 6.4 था। भूकंप का केंद्र नेपाल को माना जा रहा है क्योंकि वहां पर भूकंप का तीव्रता सबसे ज्यादा था।

यह भी पढ़ें: आंध्र प्रदेश में एक ट्रेन दुर्घटना हुई, जिसमें 11 लोगों की मौत हो गई।

भूकंप कैसा होता है अगर सवाल ही आता है तब, भूकंप कब होता है जब मिट्टी के नीचे के दो प्लेट ऊपर नीचे न जाते हुए टकरा जाते हैं। इसका मतलब यह है कि अक्सर प्लेट का स्थानांतरण होता रहता है मिट्टी के अंदर। पर यह प्लेट जब स्थानांतरण होते हैं तब एक के ऊपर एक चला जाता है। जिस समय यह प्लेट एक के ऊपर एक जाने से दिक्कत होता है और एक दूसरे के साथ टकरा जाते हैं उसे समय कुछ भी को एक झटका महसूस होता है।

यह भी पढ़ें: शाहरुख खान की करियर की सबसे बड़ी गलती। उन्होंने ठुकराया उसको जिसको नहीं ठुकराना था।

रिक्टर स्केल के माध्यम से भूकंप का तेजी मापा जा सकता है। इस बार भूकंप का तीव्रता 6.4 था। और यह भूकंप का महसूस बिहार समेत और भी कई राज्य ने किया है। भूकंप को महसूस करने वाले राज्यों में उत्तर प्रदेश में शामिल है। झारखंड के कुछ हिस्से में जी भूकंप का महसूस भी किया गया है।

कब हुआ भूकंप

ऐसे समय पर भूकंप हुआ है जिस समय लोगों को पता ही नहीं होता है कि वह क्या कर रहे हैं। हमारा कहने का मतलब यह है कि लोग जब सोए होते हैं उनके सारे इंद्रिय काम करना बंद कर देते हैं इस समय भूकंप का महसूस हुआ।

हालाकि भूकंप का झटका महसूस होने पर लोगों ने अपने घरों से बाहर आ गए। और कहीं से कोई नुकसान होने का खबर दर्ज नहीं हुआ है। भूकंप का तीव्रता सबसे ज्यादा नेपाल में महसूस हुआ क्योंकि नेपाल ही भूकंप का केंद्र था। शुक्रवार रात के 11:00 बजे 20 मिनट पर भूकंप का महसूस बिहार में किया गया है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें